Google Workspace की तकनीकी सहायता सेवाओं (TSS) संबंधी दिशा-निर्देश

तकनीकी सहायता सेवाओं (TSS) संबंधी ये दिशा-निर्देश ("दिशा-निर्देश"), "Google Workspace सेवाओं" के आपके इस्तेमाल के लिए उपलब्ध सहायता सेवाओं पर लागू होते हैं. हालांकि, कुछ सेवाओं और वर्शन पर ये दिशा-निर्देश लागू नहीं होते हैं, जिसकी जानकारी यहां दी गई है. हाइलाइट किए गए (इन्वर्टेड कॉमा या बोल्ड किए गए) जिन शब्दों की परिभाषा यहां नहीं दी गई है उनकी परिभाषा उस कानूनी समझौते में दी गई है जो Google Workspace सेवाओं के आपके इस्तेमाल पर लागू होता है ("कानूनी समझौता"). साफ़ तौर पर कहा जाए, तो Google, Google Workspace for Education में, Chrome सिंक सेवाओं के लिए TSS ऑफ़र नहीं करता है. इसके अलावा, इस यूआरएल में बताई गई सेवाओं के लिए ऑफ़र नहीं करता है: https://www.google.com/support/a/bin/answer.py?hl=hi&answer=181865.

  • 1. सहायता अनुरोध सबमिट करना
    • 1.1 गड़बड़ियां ठीक करने के लिए, ग्राहक की कोशिशें. Google को अनुरोध भेजने से पहले, ग्राहक अपनी तरफ़ से समस्याओं को हल करने, किसी भी खराबी, गड़बड़ी, बग या खराब इंटरनेट कनेक्शन को ठीक करने की उचित कोशिश करेगा. ग्राहक, Google को बिना सूचना दिए ऐसा करेगा. इसके बाद, 'ग्राहक संपर्क' तकनीकी सहायता के लिए, अनुरोध सबमिट कर सकता है. अनुरोध करने से जुड़ी जानकारी इस लिंक में दी गई है, https://support.google.com/a/answer/1047213?hl=hi. ध्यान दें कि Google इस यूआरएल की जगह कोई दूसरा यूआरएल भी दे सकता है.
    • 1.2 अनुरोधों की प्राथमिकता तय करना. अनुरोध सबमिट करने के दौरान, ग्राहक उनकी प्राथमिकताएं तय करेगा. 'ग्राहक संपर्क' से अनुरोध मिलने पर, Google यह तय करेगा कि यह "सेवा के इस्तेमाल से जुड़ी समस्या", "सामान्य तरह का अनुरोध" या "सुविधा का अनुरोध" है. इसकी जानकारी, सेक्शन 6 (परिभाषाएं) में दी गई है. Google जो भी तय करेगा है वह आखिरी फ़ैसला होगा और ग्राहक को उसे मानना होगा. अगर Google को लगता है कि ग्राहक के अनुरोध के लिए तय की गई प्राथमिकता गलत है, तो वह प्राथमिकता में बदलाव कर सकता है. Google के पास बदलाव करने का पूरा अधिकार है. Google, ग्राहक को ऐसे बदलाव की सूचना, सहायता अनुरोध के जवाब में भेजेगा. ग्राहक, अनुरोध की तय प्राथमिकता में बदलाव करने के लिए, Google के सहायता मैनेजमेंट से समीक्षा की अपील कर सकता है. इसके लिए, मदद मांगने के किसी भी उपलब्ध तरीके का इस्तेमाल किया जा सकता है.
    • 1.3 अनुरोधों को स्वीकार करने और उनके समाधान की प्रोसेस. अनुरोध करते समय, ग्राहक को गड़बड़ी से जुड़ी जानकारी देनी होगी. जैसे: (i) समस्या, कॉन्फ़िगरेशन, और ग्राहक नेटवर्क की जानकारी देना, (ii) ज़रूरी डेटा उपलब्ध कराना, (iii) सवालों के जवाब देना और Google सहायता प्रतिनिधि को सही जवाब देकर उनकी मदद करना. इनके अलावा, और भी जानकारी शामिल हो सकती है.
    • 1.4 अनुरोध स्वीकार करना. Google, अनुरोध की रसीद को स्वीकार करके, अनुरोध का जवाब दे सकता है. ग्राहक यह स्वीकार करता है और समझता है कि Google शायद सभी अनुरोधों के जवाब न दे पाए या सभी समस्याओं का समाधान न कर पाए.
    • 1.5 सुविधा के अनुरोध. अगर Google किसी अनुरोध को 'सुविधा का अनुरोध' मानता है, तो वह ऐसे अनुरोध को 'सेवाओं' के आने वाले अपडेट या रिलीज़ में शामिल करने पर विचार करेगा और उस अनुरोध को बंद कर देगा. किसी भी 'सुविधा का अनुरोध' का जवाब देने या उसका समाधान करने की जवाबदेही, Google की नहीं होती है. इसके अलावा, किसी भी 'सुविधा का अनुरोध' को, आने वाले किसी भी अपडेट या रिलीज़ में शामिल करने के लिए, Google जवाबदेह नहीं होता.
  • 2. सहायता ऐक्सेस करना
    • 2.1 Google सहायता केंद्र. ग्राहक के जो असली उपयोगकर्ता 'सेवाओं' का इस्तेमाल करते हैं वे https://support.google.com/a/ पर जाकर, Google सहायता केंद्र ऐक्सेस कर सकते हैं. इसके लिए, Google कोई दूसरा यूआरएल भी दे सकता है. अगर असली उपयोगकर्ता या कोई अन्य तीसरा पक्ष, ग्राहक या उसके असली उपयगोकर्ताओं के 'सेवाओं' के इस्तेमाल से जुड़ा कोई सवाल पूछता है या शिकायत करता है, तो उसका जवाब देने की ज़िम्मेदारी ग्राहक की होती है. इसके लिए, ग्राहक जो भी सहायता सेवा इस्तेमाल करता है उसका खर्च उसे ही उठाना होता है.
    • 2.2 ग्राहक पिन. अनुरोध करते समय, ग्राहक को अपना मौजूदा 'ग्राहक पिन' देना ज़रूरी होता है. ग्राहक, Admin Console में जाकर, 'ग्राहक पिन' देख सकता है. इस पिन की मदद से ग्राहक, Google की 'सेवाओं' के लिए, सहायता ऐक्सेस कर सकता है और पा सकता है. अनुरोध करने के दौरान, अगर 'ग्राहक पिन' मांगा जाता है और ग्राहक उसे उपलब्ध नहीं करा पाता है, तो वह सिर्फ़ Google सहायता केंद्र ऐक्सेस कर पाएगा और उसके ऑनलाइन मदद वाले फ़ोरम में अपने सवाल पोस्ट कर पाएगा. ऐसा तब तक होगा, जब तक 'ग्राहक पिन' फिर से जनरेट नहीं किया जाता. 'ग्राहक पिन' को समय-समय पर अपडेट किया जा सकता है और वह सिर्फ़ Admin Console में उपलब्ध होता है.
  • 3. Chrome सहायता
    • 3.1 सहायता की उपलब्धता. Google, 'सेवाओं' से जुड़े अनुरोधों के अलावा, Chrome से जुड़े अनुरोधों के जवाब भी देगा. इसकी जानकारी इन दिशा-निर्देशों में दी गई है. अनुरोधों के जवाब सिर्फ़ इंग्लिश भाषा में दिए जाएंगे.
    • 3.2 ऐसी समस्याएं जिनका समाधान उपलब्ध है. Google सहायता प्रतिनिधि, Chrome से जुड़े इन अनुरोधों के जवाब देगा: Chrome इंस्टॉल करने, Chrome की मूल सुविधाओं, Chrome की सुरक्षा, और एडमिन नीतियों से जुड़े अनुरोध. जिन प्लैटफ़ॉर्म पर Chrome और उसके लिए तकनीकी सहायता उपलब्ध है उन पर 'सेवाओं' के साथ Chrome की इंटरोऑपरेबिलिटी (दूसरे सिस्टम के साथ काम करना) से जुड़े अनुरोध भी इनमें शामिल हैं. इसकी जानकारी इन दिशा-निर्देशों में दी गई है. Google हो सकता है कि Chrome से जुड़ी दूसरी तकनीकी समस्याओं के जवाब न दे. जैसे, किसी खास वेब पेज की रेंडरिंग की समस्याएं, मुख्य ऑपरेटिंग सिस्टम से जुड़ी तकनीकी समस्याएं, डिवाइस ड्राइवर या प्रिंटर से जुड़ी समस्याएं. इसमें इनके अलावा, और भी समस्याएं शामिल हो सकती हैं. अगर Google किसी तकनीकी समस्या का समाधान करने के लिए, किसी कोड में बदलाव करता है, तो वह बदलाव Chrome के नए वर्शन के रिलीज़ के तौर पर लागू होगा. ऐसा होने के बाद, ग्राहक, Chrome के पुराने वर्शन पर उस बदलाव को लागू नहीं कर सकेगा.
  • 4. सहायता स्तर
    • 4.1 आम तौर पर. अगर ग्राहक, Google Workspace सेवाओं का ऑर्डर करता है, तो Google उसके हिस्से के तौर पर, ग्राहक को सामान्य TSS उपलब्ध कराता है. ग्राहक अतिरिक्त शुल्क देकर, अतिरिक्त TSS ऑर्डर कर सकता है.
    • 4.2 सामान्य सहायता. ग्राहक को ये सहायता मिलेंगी:
      • i. 'सेवाओं' के प्रॉडक्ट का अपने-आप अपग्रेड
      • ii. 'सेवाओं' के रखरखाव से जुड़े अपडेट
      • iii. असली उपयोगकर्ताओं और एडमिन के लिए, समस्या का हल अपने-आप करने में मदद करने वाले ऑनलाइन संसाधन और ट्रेनिंग की सुविधा, ताकि 'सेवाओं' को लागू करने और उनके इस्तेमाल में ग्राहक को मदद मिल सके
      • iv. सहायता अनुरोध सबमिट करने की सुविधा
      • v. स्थिति डैशबोर्ड और सहायता पोर्टल में 'सेवाओं' के लिए, सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध स्थिति की जानकारी रीयल-टाइम में दी जाती है
    • 4.3 तय किया गया शुल्क. कुछ TSS के लिए, एक साल का तय शुल्क देना होगा. ग्राहक जब ऐसे TSS के लिए अपना नाम दर्ज करता है, तो उस महीने का शुल्क, प्रो-रेट (उस महीने के लिए बचे दिन के हिसाब से) आधार पर तय होगा. इसके बाद, हर महीने का शुल्क, एक साल के लिए तय शुल्क के हिसाब से लिया जाएगा.
    • 4.4 सहायता के तय घंटे और शुरुआती जवाब देने में लगने वाले टारगेट समय.
      • i. ग्राहक किसी भी समय (24 x 7) Google सहायता केंद्र ऐक्सेस करके, Google से सहायता का अनुरोध कर पाएगा.
      • ii. अनुरोध के शुरुआती जवाब देने में लगने वाले टारगेट समय.
      •   सहायता के लिए तय घंटों के दौरान, शुरुआती जवाब देने में लगने वाले टारगेट समय
        प्राथमिकता Workspace मानक सहायता बेहतर सहायता प्रीमियम सहायता
        P1 24x7 में से चार घंटे 24x7 में से एक घंटा 24x7 में से 15 मिनट
        P2 आठ घंटे 24x7 में से चार घंटे 24x7 में दो घंटे
        P3 24 घंटे आठ घंटे 24x7 में से चार घंटे
        P4 24 घंटे आठ घंटे आठ घंटे
    • 4.5 बेहतर सहायता. बेहतर सहायता, इंग्लिश भाषा में किसी भी समय (24x7) दी जाएगी. जापानी भाषा में यह सहायता, कामकाजी घंटों के दौरान दी जाएगी. अगर जापानी भाषा में किए जाने वाले अनुरोध, कामकाजी घंटों के बाद सबमिट किए जाते हैं, तो Google उनके जवाब, Workspace मानक सहायता के लिए जवाब देने में लगने वाले तय टारगेट समय के अंदर देगा.
    • 4.6 प्रीमियम सहायता.
      • i. प्रीमियम सहायता, इंग्लिश भाषा में किसी भी समय (24x7) दी जाएगी. जापानी भाषा में यह सहायता, कामकाजी घंटों के दौरान दी जाएगी. अगर जापानी भाषा में किए जाने वाले अनुरोध, कामकाजी घंटों के बाद सबमिट किए जाते हैं, तो Google उनके जवाब, Workspace मानक सहायता के लिए जवाब देने में लगने वाले तय टारगेट समय के अंदर देगा.
      • ii. ग्राहक अगर उपलब्ध सहायता के तौर पर, प्रीमियम सहायता लेता है, तो ग्राहक को हर हफ़्ते में एक दिन, तकनीकी खाता मैनेजर की भूमिका वाले व्यक्ति से संपर्क करने का ऐक्सेस मिलता है. इसका मकसद, (a) ग्राहक की मदद से, 'सेवाओं' के लिए रणनीति बनाना, (b) 'सेवाएं' लागू करने और उनके इस्तेमाल के लिए, ग्राहक को सबसे सही तरीके की सलाह देना, और (c) तकनीकी सहायता की सूचनाएं मैनेज करना और 'सेवाओं' से जुड़ी तकनीकी पूछताछ के लिए, Google के विषय-वस्तु विशेषज्ञों से संपर्क करने में ग्राहक की मदद करना होता है. अगर ग्राहक, Technical Account Management के लिए अतिरिक्त ऐक्सेस चाहता है, तो उसे यह ऐक्सेस खरीदना पड़ सकता है. इसके लिए, अतिरिक्त शुल्क और शर्तें लागू होंगी. शुल्क की जानकारी के लिए, कृपया खाता मैनेज करने वाली अपनी टीम से संपर्क करें.
      • iii. ज़्यादा सेवाएं. प्रीमियम सहायता के लिए, ग्राहक अतिरिक्त शुल्क देकर, ये 'ज़्यादा सेवाएं' खरीद सकते हैं.
        • a. Assured Support. Google, Assured Controls ("Assured Support") के लिए, TSS उपलब्ध कराएगा. यह इस बात पर निर्भर करेगा कि ग्राहक ने सहायता पोर्टल में कौनसे कंट्रोल चुने हैं. ग्राहक को, Assured Support के लिए किए जाने वाले सभी अनुरोध, सहायता पोर्टल में "नया मामला" विकल्प के तहत सबमिट करने होंगे. सेक्शन 5.2 (भाषा) से कुछ भी अलग होने पर, Google सिर्फ़ इंग्लिश भाषा में Assured Support उपलब्ध कराएगा.
    • 4.7 लेगसी मानक सहायता. सेक्शन 4 (सहायता स्तर) की किसी अन्य शर्त से कुछ भी अलग होने पर, मानक सहायता में जिन ग्राहकों ने 6 अक्टूबर, 2020 से पहले अपने नाम दर्ज किए हैं उन पर ये शर्तें लागू होंगी: P1 प्राथमिक सहायता अनुरोधों के लिए जवाब देने में लगने वाला तय टारगेट समय एक घंटे का होगा. साथ ही, जवाब की सुविधा हर समय (24 x 7) उपलब्ध होगी. P2, P3, और P4 प्राथमिक सहायता अनुरोधों के लिए जवाब देने में लगने वाला तय टारगेट समय एक कामकाजी दिन या उससे कम का होगा
  • 5. सामान्य प्रावधान
    • 5.1 रखरखाव. यह पक्का करने के लिए कि 'सेवाएं' बेहतर तरीके से काम करें, Google समय-समय पर रखरखाव की कार्रवाई करता है. ज़्यादातर मामलों में, 'सेवाओं' की उपलब्धता और उनके काम करने के तरीके पर रखरखाव का सीमित असर होता है या इसका नकारात्मक असर देखने को नहीं मिलता है. अगर Google को लगता है कि किसी तय रखरखाव की कार्रवाई से 'सेवाओं' की उपलब्धता या उनके काम करने के तरीके पर नकारात्मक असर हो सकता है, तो Google, कारोबार के नज़रिये से सही तरीकों को ध्यान में रखते हुए, ग्राहकों को कम से कम सात दिन पहले रखरखाव की सूचना देगा. इसके साथ ही, Google आपातकालीन स्थिति में किसी भी समय रखरखाव की कार्रवाई कर सकता है, भले ही वह पहले से तय न हो. अगर Google को लगता है कि आपातकालीन स्थिति में किए जाने वाले रखरखाव की ऐसी कार्रवाई जो पहले से तय नहीं है, उसका 'सेवाओं' की उपलब्धता या उनके काम करने के तरीके पर, नकारात्मक असर हो सकता है, तो Google, कारोबार के नज़रिये से सही तरीकों को ध्यान में रखते हुए, ग्राहकों को पहले से ऐसे रखरखाव की सूचना देगा. रखरखाव की सूचनाएं, Google Workspace डैशबोर्ड, Admin Console और/या सहायता पोर्टल में दी जाएंगी. इसके अलावा, रखरखाव की सूचनाएं पाने के लिए जिन ग्राहकों ने सदस्यता ली है उन्हें रखरखाव से जुड़े ईमेल और/या आरएसएस फ़ीड की सूचनाएं भी मिल सकती हैं.
    • 5.2 भाषा. अगर इन दिशा-निर्देशों में अलग से कुछ बताया गया है, तो उसे छोड़कर, Google सहायता प्रतिनिधि, इन दिशा-निर्देशों के मुताबिक, सभी सहायता इंग्लिश भाषा में देगा. इसके अलावा, सहायता के लिए तय घंटों के दौरान, अन्य भाषाओं में से किसी एक भाषा में यह सहायता दी जाएगी. इसकी जानकारी इन दिशा-निर्देशों या https://support.google.com/a/table/3247295 में दी गई है. इसके लिए, Google कोई दूसरा यूआरएल भी दे सकता है. अगर कोई ग्राहक इन घंटों के बाद सहायता चाहता है, तो मदद मांगने के किसी तरीके का इस्तेमाल करके, इंग्लिश भाषा में सहायता मांग सकता है.
    • 5.3 सहायता की शर्त. Google, इन दिशा-निर्देशों में बताई गई सहायता सेवाएं सिर्फ़ इस कानूनी समझौते की अवधि के दौरान उपलब्ध कराएगा. इस कानूनी समझौते के रद्द किए जाने या इसकी समयसीमा खत्म होने के बाद, ग्राहक को कोई भी सहायता सेवा देने की जवाबदेही Google की नहीं होगी.
    • 5.4 सहायता डेटा प्रोसेसिंग से जुड़ी गतिविधियां. Google, इन दिशा-निर्देशोंं में बताई गई सहायता सेवाएं देने और 'सेवाओं' के रखरखाव के मकसद से, सहायता डेटा इकट्ठा करता है और उसे प्रोसेस करता है.
    • 5.5 ऑनसाइट लोकेशन से जुड़ी सहायता. अगर Google को अपनी सूझ-बूझ से यह लगता है कि समस्या का समाधान कहीं से भी नहीं किया जा सकता, तो वह, Google सहायता प्रतिनिधि को ग्राहक की ऑनसाइट लोकेशन पर भेज सकता है. ग्राहक की अनुमति मिलने पर ही ऐसा किया जाएगा. अगर Google सहायता प्रतिनिधि, ग्राहकों के ऑफ़िस जाकर सहायता की कार्रवाइयां करता है, तो ऐसी कार्रवाइयों पर ग्राहक की ऑनसाइट लोकेशन से जुड़ी उचित नीतियां लागू होंगी. Google को इसकी जानकारी लिखित में पहले से दे दी जाएगी.
  • 6. परिभाषाएं

    इन दिशा-निर्देशों के मकसद के लिए, नीचे दिए गए हाइलाइट किए गए (इन्वर्टेड कॉमा या बोल्ड किए गए) शब्दों के ये मतलब होंगे:

    • 6.1 "कामकाजी घंटे" का मतलब, जापान के कामकाजी घंटों से है. जापान के मानक समय के हिसाब से ये घंटे, सोमवार से शुक्रवार, सुबह 9 बजे से शाम के 5 बजे तक तय हैं.
    • 6.2 "Chrome" का मतलब, Chrome वेब ब्राउज़र से है, जिसे Google ऐसे प्लैटफ़ॉर्म के लिए रिलीज़ करता है जिन पर यह काम करता है. Chrome वेब ब्राउज़र को इस यूआरएल http://www.google.com/chrome/ या इस यूआरएल https://www.google.com/chrome/business/ में दिए गए MSI इंस्टॉलर पर जाकर डाउनलोड किया जा सकता है. इसके लिए, Google कोई दूसरा यूआरएल भी दे सकता है.
    • 6.3 "Chrome की मूल सुविधाएं" का मतलब, Chrome ब्राउज़र के सबसे नए वर्शन की सुविधाओं और विशेषताओं से है. इसमें Google Chrome एक्सटेंशन, Google Play, और Google Cloud Print शामिल नहीं हैं.
    • 6.4 "ग्राहक संपर्क" का मतलब, Admin Console में एडमिन की भूमिका के लिए तय लोगों से है.
    • 6.5 "सुविधा का अनुरोध" का मतलब, 'ग्राहक संपर्क' के ऐसे अनुरोध से है जो 'सेवाओं' की ऐसी नई सुविधा को शामिल करने या ऐसी मौजूदा सुविधा को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है जो फ़िलहाल, मौजूदा 'सेवाओं' के साथ उपलब्ध नहीं है.
    • 6.6 "Google सहायता प्रतिनिधि" का मतलब, Google के ऐसे प्रतिनिधियों से है जो तकनीकी सहायता के अनुरोधों पर कार्रवाई करने के लिए ज़िम्मेदार होते हैं.
    • 6.7 "सहायता के लिए तय घंटे" का मतलब, हर देश के लिए तय उन घंटों से है जिनकी सूची इस लिंक में दी गई है https://support.google.com/a/table/3247295. हालांकि, इसमें हर इलाके के लिए, स्थानीय समय के हिसाब से छुट्टियों के घंटों को शामिल नहीं किया गया है. इसकी जानकारी Admin Console में दी गई है.
    • 6.8 "रखरखाव" का मतलब, रखरखाव के ऐसे काम से है जो 'सेवाएं' उपलब्ध कराने वाले हार्डवेयर या सॉफ़्टवेयर से जुड़ा हो.
    • 6.9 "प्राथमिकता" का मतलब, यह पता लगाने से है कि अनुरोध का, ग्राहक से जुड़ी कार्रवाइयों पर कितना असर हुआ है. जवाब देने में लगने वाले टारगेट समय भी इसके हिसाब से तय किए जाते हैं. उपलब्ध प्राथमिकता स्तरों की परिभाषाएं देखने के लिए, आप हमारे सहायता केंद्र पर जा सकते हैं: https://support.google.com/a/answer/1047213
    • 6.10 "अनुरोध" का मतलब, ग्राहक के ऐसे अनुरोध से है जो वह तकनीकी सहायता के लिए, Google सहायता प्रतिनिधि से करता है. ऐसा अनुरोध 'सेवाओं' से जुड़े किसी सवाल या किसी समस्या की शिकायत के समाधान के लिए किया जाता है.
    • 6.11 "सेवा के इस्तेमाल से जुड़ी समस्या" का मतलब, प्रोडक्शन की ऐसी समस्या से है जिसकी वजह से ग्राहक के एक से ज़्यादा असली उपयोगकर्ता, 'सेवाओं' को ऐक्सेस और इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं. इसके अलावा, अगर ग्राहक के नेटवर्क को 'सेवाओं' से जुड़ा कोई इनबाउंड ईमेल नहीं मिल रहा है और/या वे आउटबाउंड ईमेल नहीं भेज पा रहे हैं, तो उन्हें इस समस्या में शामिल किया जाता है. ग्राहक को अपना अनुरोध, P1 प्राथमिक सहायता अनुरोध के तौर दिखाकर, उसकी पहचान 'सेवा के इस्तेमाल से जुड़ी समस्या' के तौर पर करनी होगी.
    • 6.12 "सामान्य तरह का अनुरोध" का मतलब, Google से किए गए ग्राहक के ऐसे अनुरोध से है जो 'सेवा के इस्तेमाल से जुड़ी समस्या' या 'सुविधा का अनुरोध' से अलग होता है.
    • 6.13 "सहायता डेटा" का मतलब, खाते के ऐसे ब्यौरे और जानकारी से है जो ग्राहक, Google को देता है, ताकि Google इन दिशा-निर्देशों में बताई गई सहायता सेवाएं उपलब्ध करा सके. इसमें, सहायता के लिए किए गए अनुरोध और किसी खास समस्या से जुड़ी सहायता के बारे में Google को दिया जाने वाला ब्यौरा भी शामिल है.
    • 6.14 "ऐसे प्लैटफ़ॉर्म जिन पर Chrome काम करता है और जिनके लिए TSS उपलब्ध है" की सूची इस लिंक में दी गई है https://support.google.com/a/bin/answer.py?answer=2763059. इसका मतलब, ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टम और वर्शन से है जिनके लिए, i) Google ने Chrome रिलीज़ किया है और ii) इन दिशा-निर्देशों के तहत तकनीकी सहायता सेवाएं उपलब्ध हैं. Google हो सकता है कि Chrome के झलक वर्शन, जैसे कि बीटा, डेव, और कैनरी या झलक सुविधाओं से जुड़ी समस्याओं के जवाब न दे. इन दिशा-निर्देशों के तहत, Chrome OS के लिए तकनीकी सहायता सेवाओं का प्रावधान नहीं है. Chrome OS के लिए, Google की तकनीकी सहायता और हार्डवेयर सेवा एक अलग कानूनी समझौते के तहत दी जाती है. साफ़ तौर पर कहा जाए, तो Chrome Frame एक अलग प्रॉडक्ट है और इन दिशा-निर्देशों में इसके लिए तकनीकी सहायता सेवा शामिल नहीं है.
    • 6.15 "ज़्यादा सेवाएं" का मतलब, अतिरिक्त शुल्क देने पर ग्राहक को मिलने वाली अतिरिक्त TSS से है.